डेंगू का रामबाण इलाज हैं गिलोय, पपीता और मेथी

524

 

डेंगू की बीमारी शहरों में काफी तेजी के साथ अपने पैर पसार रही है। डेंगू का सबसे अच्‍छा इलाज है कि उससे बचाव किया जाए। अगर आपके घर या आस पास कोई डेंगू के रोग से पीडित है तो उसे गिलोय, पपीते और मेथी की पत्‍तियों से ठीक किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें  : गिलोय Giloy : औषधीय एवं आयुर्वेदिक गुणों का खजाना

गिलोय, डेंगू के मरीजों में इम्‍यून सिस्‍टम बढ़ाने और पपीते की पत्‍तियां डेंगू के बुखार से आराम दिलाने के काम करती हैं। एक्‍सपर्ट की माने तो खून में प्‍लेटलेंट्स और बुखार को जल्‍द खतम करने के लिये घरेलू उपचार काफी काम आते हैं। आपको इससे अच्छा और सस्ता इलाज डेंगू बुखार को खतम करने का नहीं मिलेगा। आइये जानते हैं इन उपचारों के बारे में –

गिलोय : यह प्रतिरक्षा प्रणाली के निर्माण में सहायक है। बुखार के दौरान गिलोय बेल की डंडी ले कर डंडी के छोटे टुकड़े करें। इन्‍हें 2 गिलास पानी मे उबाले। जब पानी आधा रह जाये तब उसे ठंडा होने पर रोगी को पिलाये। आप पाएंगे कि रोगी के खून में मात्र 45 मिनट बाद ही रेड बल्‍ड सेल्‍स बढ़ना शुरु हो जाएंगी।

पपीते की पत्‍तियां: पपीते की ताजी और छोटी पत्‍तियां शरीर से डेंगू के विशैले जहर को निकालने मे मदद करती हैं। पपीते की ताजी पत्‍तियों को पीस कर उसके रस को रोगी को पिलाने से प्‍लेटलेट्स बढ़ने शुरु हो जाते हैं।

मेथी की पत्‍तियां: रोगी के शरीर का दर्द और बेचैनी दूर करने के लिये मेथी की पत्‍तियां काफी अच्‍छी होती हैं। इससे बुखार का लेवल तथा ब्‍लड प्रेशर का स्‍तर सामान्‍य होता है।